जी चाहता है

बजाता हूं आहों का मैं साज़ अक्सर तड़प उठती है उस पर जो आवाज़ अक्सर सुनो वो सुनाने की जी … More