ख़्याल

A220673F-40A9-4C4C-B53A-1C8642F6333D

कई दफ़ा सोचा मैंने…मैं ख़्याल को बयान करूँ

कुछ हर्फ़ में, अल्फ़ाज़ में, क़लम से उतार दूँ

कभी लगते हैं भोले से, हल्के से

जैसे नादान क़दम पीछा करते हैं बुलबुलों का

बुलबुले जो बनते हैं…हवा में तैरते फिर टूट जाते हैं

पर फिर भी भोली आँखें पीछा करती हैं दूर तक

कभी मिल जाते हैं ज़हन में बिखरे  पड़े यूँही

ख़्याल कितने बेगर्ज़ से, नेक से इतने सारे

माँ की गोद हो या अपने मेरे किसी की दुआ जैसे

कभी मिलते हैं गले लगकर ख़्याल कई मसखरे से

मनमौजी से, हँसी सी बिखेरते जैसे

जैसे शाम हो दोस्तों संग, अपनो संग हो रात सजी

कभी होती है  अचानक सी मुलाक़ात भी

जैसे इंसानियत हो, रूहानियत हो या शायद तहज़ीब भी

यूँही बेसबब आ जाता है ख़्याल…ख़यालों में

कुछ बिन बुलाए ही चले आते हैं ज़माने भर का हिसाब करने

ख़्याल कुछ मगरूर से, ख़ुदगर्ज़ कई,ऐतराज़ से लबरेज़ से

ख़्याल कितने मुख़्तलिफ़ से, किरदारों का जामा ओड़े हुए

किरदार जो ओड़े हैं मैंने वजूद की चादर में समेटे हुए

कई बार सोचा जब ख़्याल का..ख़ुद का किरदार ही बयान करूँ

Image source- Google

 

 

 

10 Comments

    1. I can try to give a rough idea coz it l difficult to arrange the words in poetic form but still try..

      Sometimes I think to write about thoughts
      In words…in alphabets..
      Sometimes they appear light like bubbles
      Bubbles which sail through and they are followed in innocence of that of a child…
      Sometimes the thoughts are so selfless and giving…
      Just like a mother’s warmth or a blessing of a dear one…
      Thoughts are sometimes of mischief and carefree..
      As if it’s a sweet timeout with friends or a night out with dear ones…
      And suddenly sometimes I encounter thoughts of spirituality…humanity…of etiquette…
      From nowhere some thoughts of pride…selfishness…annoyance creep in…
      To judge others doings…
      Thoughts are numerous
      And when I think of saying them…
      I speak of my own self…

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s