Ulfat

ulfat

I cheerfully bear every brunt in Your love

Daring to see joy in the gloomy air

Hearing Your name my eyes get intoxicated

And head bows down in devotion

Tears begin to roll as if reciting a song

While my Heartbeat gives the rhythm.

The original lines written by Swami Mukund Hari Ji Maharaj-

उल्फत  में तुम्हारी हंस हंस कर हर रंज गवारा करते हैं

गमगीन फिज़ाओं से पैदा खुशियों को नज़ारा करते हैं।

सरशार नज़र हो जाती है दिल सिजदे में झुक जाता है

जब नाम तुम्हारा सुनते हैं जब ज़िक्र तुम्हारा करते हैं।

नज़रों से सुनाते हैं नगमे धड़कन से इशारा करते हैं

हम बर्बरत ए दिल के तारों से हर राज़ उतारा करते हैं।

Ulfat- affection

2 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s