Diya nahi Dil jalta hai

PicsArt_11-29-02.54.35.jpg

When its time for the dusk to embrace the night

And the sea sees off the dimming light

My soul pants for not having You by my side.

I am no longer what I used to be

The mirror even reflects a different me.

People say in my house there is a flame bright

How would they know that

It is not of any lamp but of my burning heart.

The original lines penned by ‘Saagar’-

शाम जब रात को अपने आगोश में लेती है

और दूर समंदर में जब दिन डलता है

तुमसे मिलने की आरज़ू और जवान होती है

और मेरे दिल का अरमान मचलता है।

करवटें ले लेकर गुज़रती है तमाम रात

आहिस्ता आहिस्ता पहलू से दम निकलता है।

जब तेरी बेरुखी हद से गुज़र जाती है

कतरा कतरा होकर यह दिल पिघलता है।

हम वो नहीं जो पहले हुआ करते थे

अब तो आईना भी हमारी शक्ल बदलता है।

लोग कहते हैं तेरे घर में रोशनी है ‘सागर’

उनको क्या पता मेरे घर में दिया नहीं दिल जलता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s