Jannat

Jnnat

निगाहों में तुम हो, ख्यालों में तुम हो

यह जन्नत नहीं है, तो फिर और क्या है।।

क्या थी ज़माने में औकात मेरी,

पड़ गई मुझपे बस नज़र एक तेरी,

मेरे दिल में तुमने जो कुछ कर दिया है

ज़हर की जगह अमृत भर दिया है,

चित्तवन से यूं अपना बनाना

यह चाहत नहीं है तो फिर और क्या है।।

माना कि मेरी ज़रूरत नहीं

मगर प्यारे तेरी ज़रूरत है मुझको,

मेरी सारी बिगड़ी बनाई है तुमने

मेरी ज़िंदगी संवारी है तुमने,

जहां था अंधेरा वहीं रोशनी है

यह इनायत नहीं है तो फिर और क्या है।।

निगाहों में तुम हो, ख्यालों में तुम हो

यह जन्नत नहीं है, तो फिर और क्या है।।

Source- Unknown

Nigaahon mein tum khyalon mein tum ho

Yeh jannat nahi hai toh phir aur kya hai.

Kya thi zamaane mein aukaat meri

Pad gayi mujhpe bas nazar ek teri

Mere dil mein tumne jo kuchh kar diya hai

Zehar ki jagah amrit bhar diya hai

Chitwan se yu apna banana

Yeh chaahat nahi hai toh phir aur kya hai.

Maana ki meri zaroorat nahi hai

Magar pyaare teri zaroorat hai mujhko

Meri saari bigdi banayi hai tumne

Meri zindagi sawaari hai tumne

Jahan tha andhera wahi roshni hai

Yeh inaayat nahi hai toh phir aur kya hai.

 

 

 

2 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s